भारतीय नागरिकता पाना चाहते हैं 7306 पाकिस्तानी नागरिक

WhatsApp Image 2022-03-27 at 12.38.44 PM
WhatsApp Image 2022-03-27 at 12.38.44 PM

भारतीय नागरिक बनने के लिए चीन समेत विभिन्न देशों के दस हजार से ज्यादा नागरिकों ने किया आवेदन

नई दिल्ली (आरएनएस)। भारतीय नागरिकता हासिल करने के लिए 10,635 ने विदेशी नागरिकों ने आवेदन किया है, जिसमें 70 फीसदी से ज्यादा पाकिस्तानी नागरिकों को भारतीय नागरिकता पाने का इंतजार है।
यह जानकारी संसद में गृह मंत्रालय ने देते हुए बताया कि 7306 पाकिस्तानी भारतीय नागरिकता पाने का इंतजार कर रहे हैं। गृह मंत्रालय द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार भारतीय नागरिकता के लिए लंबित लगभग 70 प्रतिशत आवेदन पाकिस्तानियों के हैं। बुधवार को संसद सदस्य अब्दुल वहाब द्वारा पूछे गए एक सवाल के जवाब में गृह राज्य मंत्री नित्यानंद ने कहा कि भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन करने वाले 10,635 आवेदकों में से 14 दिसंबर, 2021 तक, 7,306 पाकिस्तान से थे।

चीन के 10 लोगों ने मागी भारत की नागरिकता
राज्यसभा सांसद अब्दुल वहाब ने भारत सरकार से पूछा था कि वर्तमान में भारतीय नागरिकता पाने के लिए कितने आवेदन आए हैं और वे किस देश से हैं। इन सवालों के जवाब देते हुए गृह राज्य मंत्री नित्यानंद ने बताया कि अफगानिस्तान से 1,152 आवेदन लंबित हैं, इसके बाद 428 राज्यविहिन (जिसे कोई देश अपना नागरिक नहीं मानता) लोग हैं, श्रीलंका और यूएसए से 223, नेपाल से 189 और बांग्लादेश से 161 आवेदन पेडिंग हैं। मंत्री ने कहा कि चीन के 10 आवेदकों ने भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन किया था।

4177 लोगों को भारतीय नागरिकता दी गई
गौरतलब है कि भारतीय नागरिकता प्रदान करने की शक्ति गृह मंत्रालय के पास होती है जो विस्तृत सत्यापन और जांच के बाद आवेदन को मंजूरी देती है। हालांकि इन लंबित आवेदनों के अलावा केंद्र सरकार ने बुधवार को संसद में बताया कि वर्ष 2016 से 2020 के दौरान कुल 4177 लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई है।

किन देशों के नागरिकों को मिली भारतीय नागरिकता
वर्ष 2016 से 2020 के दौरान भारतीय नागरिकता प्रदान किए जाने वाले लोगों का ब्योरा देते हुए मंत्री ने बताया, ‘‘साल 2016 में 1106, 2017 में 817, 2018 में 628, 2019 में 987 और 2020 में 639 व्यक्तियों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई है।’’ एक अन्य सवाल के जवाब में राय ने कहा कि वर्ष 2018 से 2021 के दौरान पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से हिंदू, सिख, जैन और ईसाई अल्पसंख्यक समूहों से नागरिकता हेतु कुल 8244 आवेदन प्राप्त हुए और इनमें से 3117 व्यक्तियों को भारत में नागरिकता प्रदान की गई है।

शेयर करें
Please Share this page as it is