बारिश से दो दर्जन मोटर मार्गों पर यातायात ठप

WhatsApp Image 2022-03-27 at 12.38.44 PM
WhatsApp Image 2022-03-27 at 12.38.44 PM

बागेश्वर। जिले में हो रही मानसूनी बारिश का कहर सडक़ों पर टूटा। भूस्खलन, मलबा और धंसाव से दो दर्जन मोटर मार्गों पर यातायात ठप हो गया। विभागीय जेसीबी की मदद से बुधवार शाम तक दो सडक़ों को खोला गया। 22 सडक़ों पर अब भी यातायात बाधित है। इससे ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की मुश्किल बढ़ गई हैं। हालांकि प्रशासन लगातार सडक़ों को खोलने के प्रयास में जुटा है। मंगलवार की शाम से जिले में मानसूनी बारिश का दौर जारी है। जिला मुख्यालय सहित सभी तहसीलों में बारिश हो रही है। जिसका असर सडक़ों पर भी देखने को मिल रहा है। कपकोट तहसील की सडक़ें बारिश से सबसे अधिक प्रभावित हुई हैं। रात भर बारिश के बाद बागेश्वर-कपकोट मोटर मार्ग गोलना के पास बंद हो गया था। जिसे सुबह छह बजे बाद यातायात के लिए खोला जा सका। पीएमजीएसवाई की कपकोट-काफलीकमेड़ा और खड़लेख-भनार रोड भी बुधवार दोपहर तक बंद रही। जिन्हें विभागीय जेसीबी की मदद से खोल दिया गया। बारिश के कारण बंद सडक़ों में कपकोट-शामा-तेजम, बालीघाट-रीमा, दूणी-सुकंडा, भयूं-गडेरा, धरमघर-सनगाड़, शामा-लीती, सूपी-तलाई, शामा-नौकोड़ी, कपकोट-कर्मी, लीती-गोगिना, धमरघर-माजखेत, तोली, धपोली-जेठाई, बागेश्वर-तिलसारी-सिमतोली, माजखेत-चेटाबगड़, बालीघाट-दोफाड़-धरमघर, डंगोली-सलानी, जखेड़ा-डाकघाट, रिखाड़ी-वाछम और कपकोट-लीली प्रमुख हैं। इनमें से कुछ सडक़ें एक सप्ताह से बंद पड़ी हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में आवागमन बाधित होने के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बारिश और बदहाल सडक़ों ने उनकी मुश्किल बढ़ा दी है। अधिकांश सडक़ों पर पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा है। जिसके चलते लोग जरूरी काम से तहसील या जिला मुख्यालय भी नहीं आ पा रहे हैं।

शेयर करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Share this page as it is