शिक्षा मंत्री को बताई अशासकीय विद्यालयों की समस्याएं

विकासनगर। अशासकीय विद्यालयों और विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों, शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की समस्याओं को लेकर एसजीआरआर इंटर कॉलेज सहसपुर के प्रधानाचार्य ने शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत से मुलाकात कर उन्हें ज्ञापन सौंपा। प्रधानाचार्य ने शिक्षा मंत्री पर स्वरचित कविता भी उन्हें भेंट की। प्रधानाचार्य रविंद्र सैनी ने शिक्षा मंत्री को बताया कि अशासकीय विद्यालयों के साथ सरकार की ओर से भेदभाव किया जाता रहा है। इन विद्यालयों को छात्रों के लिए आवश्यक संसाधन मुहैया कराने तक के लिए सुविधाएं नहीं दी जाती हैं। जिससे विद्यालय प्रबंधन के सामने कई दिक्कतें आती हैं। लंबे समय से अशासकीय विद्यालयों में शिक्षकों की भर्ती पर अघोषित रोक लगाई गई है, जिससे अधिकांश विद्यालय शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं। ऐसे में छात्र-छात्राओं की पढ़ाई प्रभावित होती है। सरकार की ओर से अशासकीय विद्यालयों को कोई भी संसाधन मुहैया नहीं कराए जाते हैं। इसके साथ ही इन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को समय पर वेतन नहीं मिलता है। जिससे शिक्षकों के सामने आर्थिक संकट पैदा हो जाता है। इसके साथ ही उन्होंने शिक्षकों और प्रधानाचार्यों को स्वत: सत्र लाभ दिए जाने का प्रावधान करने की मांग की। कहा कि विद्यालयों में छात्र संख्या के अनुपात में शिक्षकों की तैनाती की जानी चाहिए। प्रधानाचार्य ने कहा कि सेलाकुई मानसिक स्वास्थ्य संस्थान समेत देहरादून जिले कई अस्पतालों में वार्ड आया के पद पर तैनात संविदा स्वास्थ कर्मियों को पिछले पद्रह साल से सिर्फ आठ हजार रुपये मानदेय दिया जा रहा है, जबकि उनके बाद तैनात संविदा कर्मियों को अधिक मानदेय मिल रहा है। उन्होंने वार्ड आया का मानदेय बढ़ाए जाने की मांग भी की है।


शेयर करें