गंगोत्री धाम जाने की सोच रहे हैं तो विशेष सूचना आपके लिए

उत्तरकाशी। प्रदेश व जनपद में निरंतर पैर पसार रहे कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलो को देखते हुए गंगोत्री धाम के तीर्थ पुरोहितों ने गंगोत्री धाम परिसर में बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश पर पूर्णत: रोक लगा दी है। तीर्थ पुरोहितों ने जिलाधिकारी को प्रेषित ज्ञापन में 29 जुलाई से आगामी 15 अगस्त तक के लिए यह निर्णय लिया है। जिसके चलते चारधाम यात्रा पर आने वाले देश व राज्य भर के श्रद्धालु गंगोत्री धाम में मां गंगा के दर्शन नही कर पायेंगे।
श्री पांच मंदिर समिति गंगोत्री धाम के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल व सचिव दीपक सेमवाल ने बताया कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का संक्रमण व्यापक रूप लेता जा रहा है। देश, प्रदेश सहित अब उत्तरकाशी जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या भी दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। वहीं दूसरी ओर प्रदेश सरकार ने देशभर के श्रद्धालुओं से चारधाम यात्रा पर आने का आह्वान किया है। जिससे धामों में भी कोरोना संक्रमण का खतरा हो सकता है। कहा कि धामों में अगर संक्रमण फैल गया तो धाम ही कंटेनमेंट जोन बन जाएंगे। जिससे वैदिक काल से चली आ रही दैनिक पूजा की परंपरा में भी विघ्न पवाधा पड़ जायेगी। जिसके चलते गंगोत्री धाम के समस्त तीर्थ पुरोहितों, साधु संतो व स्थानीय व्यापारियों ने विचार व्यक्त कर 29 जुलाई से 15 अगस्त 2020 तक गंगोत्री धाम परिसर में बहारी व स्थानीय लोगों का प्रवेश पूर्ण रूप से बर्जित रहेगा। कहा कि तीर्थ पुरोहित देवस्थानम बोर्ड व कोरोना काल में चारधाम यात्रा संचालन का पहले से ही विरोध कर रहे हैं। लेकिन उसके बाद भी सरकार उनको विश्वास में लिए बिना ही फैसले कर रही है। कहा कि अभी तक गंगोत्री धाम कोरोना संक्रमण से बचा हुआ है। यदि ऐसे में देशभर के बहारी राज्यों के श्रद्धालु धाम में आते है तो वह तीर्थ पुरोहितों के साथ ही उनके परिवार के लिए खतरा बन सकता है। तीर्थ पुरोहितों ने जिलाधिकारी डा. आशीष चौहान को पत्र प्रेषित कर धाम को कोरोना संक्रमण से रोकने के लिए किसी भी यात्री को धाम में न भेजने का सहयोग मांगा है। इस मौके पर अरूण कुमार सेमवाल, दीपक सेमवाल, प्रेम बल्लभ सेमवाल, महेश सेमवाल, शिव प्रकाश सेमवाल, राजेश सेमवाल आदि मौजूद थे।


शेयर करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *