मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी का पंचायत प्रतिनिधियों से किया गया महत्वपूर्ण इ-संवाद

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पंचायत प्रतिनिधियों के साथ ई-संवाद किया। आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में पंचायत प्रतिनिधियों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताते हुए उन्होंने कहा कि देश के समग्र विकास के लिए गांवों का विकसित होना जरूरी है। मुख्यमंत्री ने कोविड-19 से लड़ाई में पंचायत प्रतिनिधियों के योगदान की सराहना भी की। उन्होंने कहा कि पंचायत प्रतिनिधियों ने एक योद्धा की तरह अपनी भूमिका का निर्वहन किया है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने पंचायत प्रतिनिधियों से आह्वान किया कि यह समय डेंगू का भी है। इन तीन महीनों में डेंगू से बचाव के लिए भी विशेष सतर्कता की आवश्यकता है और लोगों में जागरूकता होना जरूरी है। अपने संवाद में मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत नेट फेज-2 से हर गांव तक इंटरनेट पहुंचेगा।

हरिद्वार के बाद अब भारत नेट फेज-2 परियोजना में राज्य के बाकि 12 जनपदों में इंटरनेट की सुविधा पहुंचायी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में लोगों को रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत 150 तरह के कार्य किये जा सकते हैं। प्रदेश में सीमान्त एवं लघु कृषकों के लिए तीन लाख रूपये तक का ऋण ब्याज मुक्त दिया जा रहा है। इसके साथ ही राज्य में सरकारी सेवा में विभन्नि पदों पर भर्ती प्रक्रिया जारी है।

“ई-संवाद कार्यक्रम” में मुख्यमंत्री ने कहा अभी संकट का दौर है ऐसे में आर्थिक गतिविधियां भी जरूरी हैं। सभी को एहतियात बरतते हुए काम करना होगा। ई-संवाद कार्यक्रम के बाद जिलाधिकारी रंजना राजगुरू ने कहा कि मुख्यमंत्री की बातों को अमल में लाने का धरातल पर प्रयास किया जाएगा। वहीं, पंचायत प्रतिनिधियों ने भी मुख्यमंत्री के संवाद और खासकर स्वरोजगार को लेकर कही गई बातों की सराहना की। वहीं, रुद्रप्रयाग के सभागार में भी जिलाधिकारी वंदना सिंह की मौजूदगी में विभिन्न गांवों से आए जनप्रतिनिधि ई-संवाद कार्यक्रम का हिस्सा बने। जनप्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री द्वारा आत्मनिर्भर भारत, मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना और ग्रीन हिमालय योजना के बारे में जानकारी हासिल की।


शेयर करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *