ठोस और तरल कूड़े के प्रबंधन की जानकारी दी

विकासनगर। नगर पालिका विकासनगर और हरबर्टपुर में आयोजित संगोष्ठी में लोगों को कर्मचारियों को ठोस और तरल कूड़े के प्रबंधन की जानकारी दी गई। अधिकारियों ने कहा कि जितना हो सके कचरे को कम किया जाना चाहिए। नगर पालिका विकासनगर और हरबर्टपुर में सोमवार को अपशिष्ट प्रबंधन विषय पर संगोष्ठी आयोजित की है। इसमें नागरिकों, जन प्रतिनिधियों और कर्मचारियों को ठोस और तरल कूड़े के प्रबंधन की जानकारी दी गई। नगर पालिका विकासनगर के सभागार में अपशिष्ट प्रबंधन की जानकारी देते हुए अधिशासी अभियंता बद्री प्रसाद भट्ट ने बताया कि जितना हो सके कचरे को कम किया जाना चाहिए। रिसाइक्लिंग के माध्यम से इस कचरे में सामग्री के दुबारा उपयोग की कोशिश की जानी चाहिए। इसके साथ ही खाद और उर्वरक कार्यों में कचरे का अधिकतम उपयोग किया जा सकता है। बताया कि महत्वपूर्ण कचरे के उत्पादन को कम करना है। कागज और अन्य कार्बनिक पदार्थों से खाद बनाई जा सकती है। नगर पालिका हरबर्टपुर के सभागार में जानकारी देते हुए अधिशासी अधिकारी भगवंत सिंह ने बताया कि कचरा आबादी वाले क्षेत्र से दूर जमा किया जाना चाहिए। प्रदूषण के जोखिम से आबादी को बचाया जा सके। कहा कि कचरा निपटान की सबसे पुरानी विधि भस्मीकरण है। इससे प्रदूषणकारी उत्सर्जन को वातावरण में छोड़ दिया जाता है। उन्होंने बताया कि कचरे ठोस और तरल अलग अलग एकत्र कर उनका निपटान अलग किया जाना चाहिए। कुछ तरल कचरे से खाद बनाई जा सकती है। जबकि ठोस कचरे को दुबारा उपयोग में लाया जा सकता है। कहा कि भविष्य की पीढ़ी को संतुलित पर्यावरण और कचरा मुक्त स्वच्छ समाज देना वर्तमान पीढ़ी का दायित्व है। इस दौरान नगर पालिका अध्यक्ष शांति जुवांठा, देवेंद्र बिष्ट, सभासद धर्मेंद्र ठाकुर, शम्मी प्रकाश, उपासना, गुड्डी देवी, विपुल अग्रवाल, पूर्व व्यापार मंडल अध्यक्ष अमरजीत सिंह, गढ़वाल सभा अध्यक्ष राजेंद्र बिंजोला आदि मौजूद रहे।


शेयर करें