जलभराव और क्षतिग्रस्त सडक़ से लोग परेशान

WhatsApp Image 2022-03-27 at 12.38.44 PM
WhatsApp Image 2022-03-27 at 12.38.44 PM

रुडकी। रामनगर लेबर चौक और सिद्धार्थ एंक्लेव में जलभराव और क्षतिग्रस्त सडक़ से लोगों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। जल निकासी नहीं होने के कारण पानी लोगों के घरों के बाहर जमा हो रहा है। उनका कहना है कि जनप्रतिनिधियों से लेकर अधिकारियों तक पानी निकासी की गुहार लगा चुके हैं, लेकिन कोई सुध लेने को तैयार नहीं है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि जल्द समस्या का समाधान नहीं हुआ तो अफसरों के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा। सिद्धार्थ एंक्लेव और रामनगर लेबर चौक पर जलभराव की समस्या से करीब दो हजार की आबादी को दिक्कतें उठानी पड़ रही है। जरा सी बरसात होने के बाद ही सडक़ पर तालाब जैसा नजारा देखने को मिलता है। वहीं सडक़ पर बने गड्ढे समस्या और बढ़ा रहे हैं। जिसके कारण लोगों को आवाजाही में दिक्क्तों का सामना करना पड़ रहा है। छह माह पहले भी लोगों ने समस्या को लेकर निगम अधिकारियों का घेराव किया था। उस दौरान अधिकारियों ने समस्या के समाधान करने का आश्वासन दिया था। लेकिन अधिकारियों ने अभी तक कोई सुध नहीं ली है। क्षेत्रवासी वरुण सिंह सैनी, राज सिंह और अमरीश ने बताया कि लेबर चौक और सिद्धार्थ एंक्लेव की समस्या से लोग बहुत परेशान हो गए हैं। बताया कि पानी की निकासी नहीं होने के कारण लोगों के घरों में पानी घुस रहा है। बताया कि जनप्रतिनिधियों से लेकर निगम अधिकारियों तक गुहार लगा चुके हैं। लेकिन अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। नरेश, रमेश, ज्ञानचंद और सुशील ने बताया कि कई बार इस रोड पर जलभराव के चलते दुर्घटनाएं हो चुकी हैं। बताया कि लगातार गली में पानी जमा रहने से लोगों को जनजनित बीमारियां फैलने का खतरा सता रहा है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि जल्द समस्या का समाधान नहीं हुआ तो नगर निगम के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा।

कृष्णा नगर वार्ड में खत्म नहीं हो रही जलभराव की समस्या
कृष्णानगर वार्ड के लोग अपने क्षेत्र की जलसमस्या को लेकर काफी परेशान हैं। क्षेत्रीय महिला पार्षद ने जलभराव की समस्या के लिए दो विधायकों से गुहार भी लगा ली है। लेकिन अभी तक भी कुछ हल नहीं निकला है। क्षेत्रीय निवासी संजय कश्यप ने बताया तीन दिन पहले हुई बरसात के पानी अभी भी सडक़ों पर जमा है। जिससे लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

शेयर करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please Share this page as it is