पर्यटन सीजन शुरू होते ही आंदोलन पर चले जाएंगे पर्यटन कर्मचारी

देहरादून। केएमवीएन जीएमवीएन संयुक्त कर्मचारी महासंघ ने पर्यटन सीजन शुरू होते ही आंदोलन की चेतावनी दी। दोनों निगमों के दैनिक वेतन कर्मचारियों के नियमितीकरण न होने पर नाराजगी जताई। चेतावनी दी कि यदि 25 मार्च तक मांगों का निस्तारण न हुआ तो कर्मचारी अनिश्चितकालीन आंदोलन पर चले जाएंगे। महासंघ अध्यक्ष दिनेश गुरुरानी ने सीएम पुष्कर सिंह धामी को भेजे पत्र में कहा कि शासन स्तर पर पूर्व में हुई वार्ता में कई आश्वासन दिए गए। वार्ता में तय हुआ था कि दोनों निगमों के एकीकरण से पहले कई वर्षों से कार्यरत दैनिक संविदा कर्मचारियों का नियमितीकरण किया जाएगा। निगमों में व्याप्त वेतन विसंगति दूर की जाएगी। विभागीय प्रमोशन करते हुए सेवारत और सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लंबित बकाया का भुगतान किया जाएगा। दोनों निगमों के किसी भी आवास गृह समेत निगम की इकाइयों को निजी क्षेत्र में नहीं दिया जाएगा। इन मांगों को लेकर पूर्व में आंदोलन हुआ था।
आंदोलन समाप्त कराने को शासन स्तर पर वार्ता हुई। सहमति बनी थी कि कर्मचारियों का नियमितीकरण होने तक उन्हें समान काम का समान वेतन दिया जाएगा। अभी तक इस दिशा में कोई कार्यवाही नहीं हुई। दोनों निगमों के एकीकरण से पहले कर्मचारियों के लंबित प्रकरणों का समाधान किया जाना था। जो कि नहीं हुआ। सीएम से इन तमाम मांगों के निस्तारण की मांग की गई है। 25 मार्च के बाद बिना किसी सूचना के तत्काल अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा।

आउटसोर्स कर्मियों का संविदा वालों से ज्यादा वेतन
महासंघ अध्यक्ष ने कहा कि केएमवीएन में तत्काल आउट सोर्स प्रथा बंद की जाए। क्योंकि आउटसोर्स के कर्मचारियों को संविदा कर्मियों से ज्यादा वेतन मिल रहा है। इसे लेकर कर्मचारियों में आक्रोश व्याप्त है।


शेयर करें
error: Share this page as it is...!!!!