पंचायत प्रतिनिधियों ने अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर खड़े किए सवाल

चमोली। शुक्रवार को आयोजित क्षेत्र पंचायत की बैठक में पंचायत प्रतिनिधियों ने चमोली जनपद में अधिकारियों की कार्यप्रणाली को लेकर सवाल खड़े किए। पंचायत प्रतिनिाधियों ने कहा कि पहले तो अधिकारी बैठकों में नहीं पहुंचते। यदि प्रतिनिधि समस्याएं रखते भी हैं तो उन पर पर तीन माह बीतने के बाद भी कार्रवाई नहीं होती है। विकासखंड सभागार में प्रमुख चंद्रेश्वरी देवी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में एडीओ पंचायत एमएम नगवाल ने पूर्व की बैठक की कार्रवाई पढ़नी शुरू की। जिसमें दर्ज अधिकांश समस्याओं का समाधान नहीं होने पर प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने नाराजगी जताई। प्रधान संघ के ब्लाक महामंत्री गौतम मिंगवाल ने बताया कि बीडीसी बैठकों को अधिकारी संजीदा नहीं ले रहे हैं। शुक्रवार को स्तरीय अधिकारी बैठक में नहीं थे। न तो पूर्व की बैठक में दर्ज समस्याओं का निस्तारण किया गया। ऐसे में ग्रामीण समस्याओं का निस्तारण कौन करेगा यह सवाल बना है। बैठक में उत्तरों की क्षेत्र पंचायत सदस्य अंजना देवी ने मैखुरा सड़क का डामरीकरण करने एंड के प्रधान कुलदीप ने सड़क का निर्माण गुणवत्तापूरक करने सहित जंगली जानवरों की समस्याएं, सिंचाई, पेयजल और शिक्षा से संबधित मुद्दों पर चर्चा की। बैठक में ज्येष्ठ उपप्रमुख प्रदीप चौहान, कनिष्ठ उपप्रमुख अनीता सेमवाल, बीडीओ डीएस रावत आदि मौजूद थे।


शेयर करें
error: Share this page as it is...!!!!