घर के सामने खड़ी कार देख वकील को आया गुस्सा, बहस के बाद फायरिंग

नई दिल्‍ली।  पूर्वी दिल्ली के मयूर विहार एरिया में एक वकील ने अपने घर के सामने वाली जगह पर गाड़ी खड़ी करने को लेकर 23 साल के युवक पर गोली चला दी। गनीमत यह रही की युवक को गोली नहीं लगी। मगर एक गोली उसकी गाड़ी को पार करके निकल गई। जिसके बाद आरोपी पर जान से मारने की कोशिश का केस दर्ज दिया गया है। पुलिस ने शनिवार को इस घटना की जानकारी दी। घटना मयूर विहार के पॉकेट ई में रात करीब 10 बजे घटी। यह महानगरों में अक्सर सीमित पार्किंग की वजह से होने वाले मामूली विवाद के हिंसा में बदल जाने का उदाहरण है।
लेटेस्ट केस पर पुलिस का कहना है कि आरोपी की पहचान 38 साल के श्याम सिंह चौहान के तौर पर हुई है। उसे 16 अप्रैल को गिरफ्तार करने के बाद न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। चौहान ने मयूर विहार निवासी वेदांत खोदनकर पर गोलियां चलाईं, जिसने आरोपी के घर के सामने कार पार्क की थी। जब चौहान वहां पहुंचा तब वेदांत बैडमिंटन खेलने के लिए पड़ोस में गया हुआ था। पीड़ित ने पुलिस को बताया कि जह वह वापस लौटा तो देखा कि एक कार उनकी गाड़ी के नजदीक पार्क है, जिससे उनकी एग्जिट ब्लॉक हो गई है।
वेदांत ने चौहान से अपनी कार हटाने के लिए कहा, जिसने मना कर दिया। इस दौरान जब उसने अपनी कार में बैठने की कोशिश की तो चौहान की काली एसयूवी में डेंट लग गया। एफआईआर के अनुसार खोदनकर ने कहा, ‘उसने मुझे गाली देना शुरू कर दिया और मैंने भी जवाब में गाली दी। हमारे बीच तीखी बहस हुई।’ इसके बाद चौहान गन लेकर आया, उस समय वेदांत और उसका दोस्त जाने के लिए कार में बैठे थे। वकील ने उनपर फायरिंग कर दी। वेदांत बच गया लेकिन गोली गाड़ी के रियर विंडो में लग गई।
डिप्टी कमिश्नर (पूर्व) अपूर्व गुप्ता ने कहा कि शिकायत के आधार पर, भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 307 (हत्या का प्रयास) और शस्त्र अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। चौहान को 16 अप्रैल को गिरफ्तार कर लिया गया। गुप्ता ने कहा, ‘टीम ने उस घर पर रेड की जहां से गोली चलाई गई थी और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया, जो गिरफ्तारी से बचने के लिए हथियार के साथ अपना घर छोड़ने की जल्दी में था।’ एक लाइसेंसी बंदूक, तीन जिंदा कारतूस और एक खाली कारतूस बरामद किया गया। उन्होंने बताया कि बंदूक का लाइसेंस वैलिड है।


शेयर करें
error: Share this page as it is...!!!!