एबीवीपी ने छात्रहितों को लेकर समीक्षा बैठक में किया चिंतन

नई टिहरी(आरएनएस)। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की दो दिवसीय प्रांत समीक्षा योजना बैठक में संगठन के कार्यक्रमों को और व्यापक स्तर पर आयोजित करने का निर्णय लिया गया। साथ ही सदस्यता बढ़ाने, शैक्षणिक उन्नयन, छात्र कल्याण के लिए बेतहर कार्य योजना बनाकर क्रियान्वयन का संकल्प भी लिया गया। वक्ताओं ने कहा कि विद्यार्थी परिषद दुनिया का सबसे बड़ा छात्र संगठन है। ऐसे में छात्रहित से लेकर युवाओं में बढ़ती नशे की प्रवृत्ति को दूर करने के लिए भी जन जागरूकता अभियान चलाए जाने जरूरी हैं। गुरुवार को आयोजित बैठक का अभाविप के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री प्रफुल्ल अकांता ने दीप जलाकर उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि समृद्ध, विकसित और सशक्त भारत बनाने में युवाओं की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण है। कहा कि युवाओं को नशे से दूर रहकर सकारात्मक ऊर्जा के साथ राष्ट्र निर्माण का काम करना चाहिए। उन्होंने संगठन के एक वर्ष के कार्यों की विस्तार से समीक्षा करते हुए आगामी वर्ष की कार्य योजनाओं के सफल क्रियान्वयन पर जोर दिया। कहा कि प्रत्येक वर्ष 9 जुलाई को संगठन का स्थापना दिवस, 19 नवंबर को रानी लक्ष्मी भाई का जयंती, 6 दिसंबर का सामाजिक समरसता दिवस समेत अन्य कार्यक्रमों का आयोजित सफलता पूर्वक किया जाना चाहिए। क्षेत्रीय संगठन मंत्री मनोज नीखरा सदस्यता अभियान बढ़ाने, छात्र आंदोलन में सक्रिया भागीदारी निभाने पर जोर दिया। प्रांतीय अध्यक्ष डॉ. ममता सिंह, मंत्री ऋषभ रावत, प्रदेश संगठन मंत्री विक्रम कपरूवाण ने कहा कि शिक्षा के साथ ही रचनात्मक गतिविधियों के लिए निरंतर काम करने, छात्रों से जुड़ी समस्याओं के निराकरण, महाविद्यालयों में प्रवेश, परीक्षा परिणाम को लेकर छात्रों की चिंता करनी चाहिए। इस मौके पर आरएसएस के जिला प्रचारक गौरव, एबीवीपी के जिला संगठन मंत्री प्रवीण असवाल, डा अनूप सेमवाल सहित कई पदाधिकारी मौजूद रहे।


शेयर करें
error: Share this page as it is...!!!!