विस सचिवालय के बर्खास्त 228 कर्मचारियों की पैरवी को हरिद्वार पहुंचे सुब्रह्मण्यम स्वामी

देहरादून। देश के जाने माने वकील, भाजपा नेता एवं पूर्व सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी उत्तराखंड विधानसभा सचिवालय के बर्खास्त 228 कर्मचारियों की पैरवी के लिए रविवार को हरिद्वार पहुंचे। उन्होंने एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि मैं इन बर्खास्त कार्मिकों की नि:शुल्क पैरवी करूंगा। उन्होंने इस बात पर हैरानी जताई कि बिना कारण बताओ नोटिस के इन कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया गया।
सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा कि उत्तराखंड विधानसभा सचिवालय में भर्ती प्रक्रिया साल 2001 से 2022 तक एक समान है। इसको विस अध्यक्ष की ओर से गठित कोटिया कमेटी ने भी अपनी रिपोर्ट में स्पष्ट किया है। उत्तराखंड सरकार के महाधिवक्ता भी इस पर अपनी राय देने से इनकार कर चुके हैं। यदि नियुक्तियों में नियमों का उल्लंघन हुआ है तो वह उत्तराखंड राज्य गठन के बाद से ही हुआ है।
वरिष्ठ अधिवक्ता ने सवाल किया कि यह कहां का न्याय है, कि वर्ष 2001 से 2015 की नियुक्ति को संरक्षण दिया जा रहा है। वहीं वर्ष 2016 से वर्ष 2022 तक के कार्मिकों को 7 साल की सेवा के बाद एक पक्षीय कार्रवाई के जरिए बर्खास्त कर दिया गया है। मैं इस फैसले की घोर निंदा करता हूं। मुझे पता चला है कि साल 2017 में इस मसले पर एक जनहित याचिका हाईकोर्ट नैनीताल में दायर हुई थी।
वर्ष 2018 में हाईकोर्ट एवं सुप्रीम कोर्ट ने कर्मचारियों के पक्ष में फैसला सुनाया और नियुक्तियों को वैध करार दिया। उस समय इसी विधानसभा ने कार्मिकों के पक्ष में उच्च न्यायालय में काउंटर एफिडेविट फाइल किया और नियुक्तियों को वैध बताया। अब वर्ष 2022 में यही विधानसभा यू-टर्न लेकर नियुक्तियों को अवैध बता रही है। यह तो हैरान करने वाली बात है।


शेयर करें