पिरान कलियर में हो रहे अनैतिक काम : शादाब शम्स

देहरादून।  पिरान कलियर को उत्तराखंड का छठवां धाम माना जाता है, लेकिन इस धाम में कई अनैतिक काम हो रहे हैं। उत्तराखंड वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष शादाब शम्स ने कहा है कि पिरान कलियर में लोगों की बहुत बड़ी आस्था है, लेकिन इस आस्था पर कुछ लोग बट्टा लगाने का काम कर रहे हैं। वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष शादाब शम्स ने आगे कहा कि पिरान कलियर में मानव तस्करी के साथ-साथ देह व्यापार की भी कई घटनाएं सामने आ रही हैं। साथ ही मानव तस्करी के साथ ड्रग्स की तस्करी भी चरम पर है।  उन्होंने कहा कि इस गंदगी को हटाने के लिए सरकार हर संभव प्रयास करेगी। शादाब शम्स ने आगे कहा कि धामी सरकार एक भी गलत आदमी को पिरान कलियर में ठहरने नहीं देगी। ऐसे लोगों पर सरकार की झाड़ू भी चलाएगी और बुलडोजर भी चलाएगी।

शादाब शम्स का कहना है कि बोर्ड 15 सितंबर को होने वाली अपनी बैठक में पूरे राज्य में वक्फ जमीन से अवैध कब्जा हटाने के लिए जरूरी बुलडोजर खरीदने या किराए पर लेने का प्रस्ताव पेश करेगा। उन्होंने कहा कि राज्य के विभिन्न हिस्सों में हजारों एकड़ वक्फ भूमि पर अवैध रूप से कब्जा है।  हम अपनी संपत्तियों को माफिया के चंगुल से मुक्त करना चाहते हैं ताकि वे उन लोगों के लिए उपयोगी बन सकें जिनके लिए वे वास्तव में हैं। उन्होंने कहा कि अवैध कब्जाधारियों को नोटिस दिया जा रहा है और कार्रवाई अगले सप्ताह कभी भी शुरू कर दी जाएगी। शादाब शम्स ने कहा कि कार्रवाई की शुरुआत देहरादून के प्रेम नगर से होगी। जहां 14 बीघा वक्फ भूमि पर अलीगढ़ के मुसलमानों का कब्जा है।  वे सालों पहले यहां सेलाकुई क्षेत्र में कारखानों में काम करने आए थे और अपना घर बना लिया था। इस भूमि पर लगभग 200 परिवार रहते हैं। उन्होंने कहा कि कौन जानता है कि वे कौन हैं। वे संदिग्ध पृष्ठभूमि वाले लोग हो सकते हैं। उत्तराखंड धर्मशाला नहीं है।


शेयर करें
error: Share this page as it is...!!!!