लघु व्यापारियों ने प्रशासन पर लगाया फेरी नीति नियमावली के उल्लंघन का आरोप

हरिद्वार। लघु व्यापारियों ने बैठक कर प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे अतिक्रमण हटाओ अभियान के अंतर्गत नगर निगम द्वारा चिन्हित वेंडिंग जोन से हटाए गए लघु व्यापारियों को पुनः स्थापित किए जाने की मांग की है। लघु व्यापारियों ने मुख्यमंत्री व शहरी विकास मंत्री को पत्र प्रेषित कर व मुख्यमंत्री शिकायत पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराकर अतिक्रमण के नाम पर चिन्हित वेंडिंग जोन से लघु व्यापारियों को हटाने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग भी की। चडी घाट रोड़ पर न्यू स्मार्ट वेंडिंग जोन में आयोजित लघु व्यापार एसोसिएशन की बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष संजय चोपड़ा ने कहा कि हरिद्वार नगर निगम प्रशासन द्वारा फेरी समिति का गठन किया गया है। जिसमें लघु व्यापार संगठन व 16 विभाग शामिल हैं। प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे अतिक्रमण हटाओ अभियान के तहत चिन्हित वेंडिंग जोन से लघु व्यापारियों को हटाकर राज्य फेरी नीति नियमावली का उल्लंघन किया जा रहा हैं। एक और नगर निगम प्रशासन द्वारा वेंडिंग जोन स्थापित कर उनमें लघु व्यापारियों को विस्थापित किए जाने की कार्रवाई की जा रही है। दूसरी और चिन्हित वेंडिंग जोन में कारोबार कर रहे लघु व्यापारियों को हटाया जा रहा हैं। चोपड़ा ने कहा कि अतिक्रमण हटाने से पहले चिन्हित किए गए वेंडिंग जोन में लघु व्यापारियों को विस्थापित कर बाजार का संचालन शुरू किया जाए। जिससे लघु व्यापारियों को राज्य फेरी नीति नियमावली का लाभ मिल सके। जिला अध्यक्ष राजेंद्र पाल ने कहा यदि हरिद्वार नगर निगम प्रशासन द्वारा उत्तराखंड नगरीय फेरी नीति नियमावली के उल्लंघन की कार्रवाई को नहीं रोका गया तो लघु व्यापारी आंदोलन करने को मजबूर होंगे। बैठक में प्रदेश महामंत्री मनोज मंडल, पिंक वेंडिंग जोन की अध्यक्ष पूनम माखन, नम्रता सरकार, कामिनी मिश्रा, सुनीता चौहान, तस्लीम अहमद, जय भगवान, कुमारपाल, जयसिंह बिष्ट, विजेंद्र कुमार, नईम सलमानी, आजम अंसारी, चंदन सिंह रावत, सचिन बिष्ट, प्रभात, मोहनलाल, यामीन अंसारी, विजय गुप्ता, लालचंद गुप्ता, भोला यादव, चंदन राणा, ओमप्रकाश भाटिया, मनीष शर्मा, सचिन राजपूत आदि प्रमुख रूप से शामिल रहे।


शेयर करें