अल्मोड़ा: मेडिकल कॉलेज से चिकित्सकों के स्थानांतरण के विरोध में कांग्रेस ने फूँका स्वास्थ्य एवं जनपद के प्रभारी मंत्री धन सिंह रावत का पुतला

अल्मोड़ा। उत्तराखण्ड के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सोबन सिंह जीना मेडिकल कॉलेज से एक दर्जन बाँडधारी रेजीडेन्स चिकित्सकों के सामूहिक स्थानांतरण करने के खिलाफ काँग्रेसजनों ने चौघानपाटा में सड़क पर उतरकर प्रदेश की धामी सरकार के खिलाफ आक्रोश में जोरदार नारेबाजी के बीच राज्य के स्वास्थ्य मंत्री और अल्मोड़ा के प्रभारी मंत्री धन सिंह रावत का पुतला फूँककर तीव्र विरोध जताया और शीघ्र स्थानांतरण रद्द नहीं करने पर मंत्री धन सिंह रावत को अल्मोड़ा में प्रवेश नहीं करने देने का एलान किया।
कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह भोज गुडडू ने कहा कि प्रदेश की धामी सरकार द्वेष की भावना से काम कर रही है। अल्मोड़ा मेडिकल कालेज पूर्णरूप से अस्तित्व में आया नहीं है। वहीं धामी सरकार पूरे मनोयोग से मरीजों का उपचार कर रहे रेजीडेन्स चिकित्सकों का सामूहिक स्थानांतरण करके मेडिकल कॉलेज का संचालन ठप कर रही है और वहीं पर्वतीय जनता के विश्वास और उम्मीद को ठेस पहुँचा रही है। अगर शीघ्र ही चिकित्सकों के स्थानांतरण रद्द नहीं किये तो राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ऒर अल्मोड़ा के प्रभारी मंत्री धन सिंह रावत का जोरदार विरोध किया जाएगा और काँग्रेसजन अल्मोड़ा में प्रवेश नहीं करने देंगे।
नगर अध्यक्ष तारा चन्द्र जोशी ने कहा कि पिछले छह साल से प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों की स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति बदहाल है। अल्मोड़ा मेडिकल कालेज से अल्मोड़ा सहित बागेश्वर, पिथौरागढ, चमोली और चम्पावत की जनता को बड़ी उम्मीद थी लेकिन धामी सरकार पर्वतीय जनमानस की जनता के साथ षड्यंत्र रचकर मेडिकल कालेज के संचालन में षड्यंत्र रच रही है। जिसे काँग्रेस पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी।
पूर्व प्रांतीय सचिव त्रिलोचन जोशी ने कहा कि प्रदेश की धामी सरकार से स्वास्थ्य मंत्रालय जैसा अहम विभाग नहीं संभल रहा है। जनपद के प्रभारी मंत्री एवं अहम मंत्रालय स्वास्थ्य मंत्री के प्रभार वाले क्षेत्र में एक दर्जन चिकित्सकों का स्थानांतरण बड़े षड्यंत्र का इशारा प्रतीत होता है, कि धामी सरकार जनता की जनभावनाओं के साथ बड़ा खिलवाड़ करके जनता के खिलाफ दमनात्मक रवैया अपना रही है। विशेषज्ञ चिकित्सकों के स्थानांतरण से अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज की स्वास्थ्य सेवायें ठप हो जाएंगी। जिसे जनहित में काँग्रेस पार्टी कतई नहीं स्वीकारेगी। प्रदेश की धामी सरकार केवल विज्ञापनों तक सीमित सरकार बन चुकी है। धरातल पर हर वर्ग का शोषण तथा उत्पीड़न चरम पर है। आम जनता से जुड़े स्वास्थ्य जैसे अहम विषय पर सरकार की बड़ी लापरवाही है। धामी सरकार को तत्काल स्वास्थ्य जैसे संवेदनशील विषय पर तत्काल निर्णय लेकर एक दर्जन चिकित्सकों के स्थानांतरण रद्द करने चाहिए।
पुतला दहन कार्यक्रम में पूर्व जिलाध्यक्ष पीताम्बर पाण्डेय, महिला जिलाध्यक्ष लता तिवारी, वरिष्ठ काँग्रेसी मनोज सनवाल, अख्तर हुसैन, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष पवन महरा, विधानसभा युकां अध्यक्ष विपुल कार्की, जिला महिला महामंत्री राधा बिष्ट, सरस्वती रोढिया, छात्रसंघ अध्यक्ष पंकज कार्की, प्रधान संगठन जिलाध्यक्ष धीरेन्द्र गेलाकोटी, वैभव पाण्डेय, अनुसूचित जाति विभाग जिलाध्यक्ष किशन लाल, नगर उपाध्यक्ष एन डी पाण्डेय, भीमा पवार, बी के पाण्डेय, निजाम कुरैशी, अरविन्द रौतेला, संजय दुर्गापाल, महेश आर्या, अम्बीराम, देवेन्द्र बिष्ट, विनोद वैष्णव, मनोज बिष्ट, लोकेश तिवारी, विक्रम बिष्ट, अख्तर हुसैन, ललित सतवाल, प्रदीप बिष्ट, पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष सुनील सिंह, अशोक ग्वासकोटी, संजू सिंह, बाला रावत, नितिन रावत, राहुल खोलिया, अमित बिष्ट, संजीव कर्मयाल, शेखर पाण्डेय, गिरीश जोशी, बसन्त बल्लभ भट्ट, दीवान राम आदि मौजूद थे।


शेयर करें
error: Share this page as it is...!!!!